Intolerance in India

फर्क देखिये भारत और दुनियां में
==================

  • अमेरिका में मुस्लिमो को एयरपोर्ट पर नंगा किया जाता है, न्यूयॉर्क में मस्जिदों को आंतकी घोषित किया गया है , पर वहां कोई असहिष्णुता, intolerance, सेकुलरिज्म नहीं चिल्लाता..
  • चीन में में दाढी,बुर्के पर प्रतिबंध लगता है, वहां रोजा रमजान मनाने पर पाबंदी लगाईं जाती हैं ,इमामों को सडको पर खड़ा करके नचवाया जाता हैं पर वहां कोई असहिष्णुता, intolerance, सेकुलरिज्म नहीं चिल्लाता..
  • जर्मनी, फ्रांस, यूरोप, आस्ट्रेलिया वगैरह में सरे आम बड़ी बड़ी इस्लाम विरोधी रैलियां होती हैं, वहां प्रशासन मुस्लिमो पर सख्ती दिखाता है ,पर वहां कोई असहिष्णुता, intolerance, सेकुलरिज्म नहीं चिल्लाता..
  • जापान, अंगोला, ताजिकस्तान में इस्लाम के प्रसार पर बैन लगाया जाता हैं, पर वहां कोई असहिष्णुता, intolerance, सेकुलरिज्म नहीं चिल्लाता..

    गौरतलब हैं ये सभी देश बेहद शिक्षित विकसित और प्रगतिशील है… अब एक नजर भारत पर…

  • यहां कानून से इतर मुस्लिमो के लिए अलग से पर्सनल ला बोर्ड दिया गया है, जो कोई गैर मुस्लिम देश अपने मुस्लिमों को नहीं देता, लेकिन फिर भी ये देश असहिष्णु, intolerant हैं…
  • 1947 में कुछ हजार मस्जिदों की संख्या अब यहाँ दो लाख से उपर हो जाती हैं, रोजाना नए नए मस्जिद, मदरसे बनते है लेकिन फिर भी ये देश असहिष्णु, intolerant हैं…
  • मुस्लिमो के लिए राज्य सरकारों द्वारा कई स्कीमें, सब्सिडी ,इमामों को पेशन, मदरसों को अनुदान दिया जाता हैं, लेकिन फिर भी ये देश असहिष्णु, intolerant हैं…
  • यहाँ जहां मर्जी सड़कों को घेरकर नमाज पढ़ीं जाती हैं, सुबह शाम मस्जिदों का लाउडस्पीकर शोर मचाता हैं, लेकिन फिर भी ये देश असहिष्णु, intolerant हैं…

    अब आप खुद तय करे कि कौन वास्तव में असहिष्णु, intolerant हैं और कौन नहीं

Shared by one of Facebook user.

Leave a Reply